फूलों से सजी एंबुलेंस, 45 मिनट में अंतिम संस्‍कार, बेटी नहीं कर पाई दर्शन, सिर्फ 24 लोग शामिल

चहेते फिल्‍मी सितारे जब इस दुनिया को अलविदा कहते हैं तो उन्‍हें चाहने वाले अंतिम दर्शन को उमड़ पड़ते हैं । सड़कों पर पैर रखने की भी जगह नहीं होती । आज भी एक ऐसा ही चहेता सितारा दुनिया को अलविदा कह गया, लेकिन उसके अंतिम दर्शन को चाहते हुए भी फैंस आ ना सके । मुंबई के अस्‍पताल में आज रिषी कपूर ने मुस्‍कुराते हुए आखिरी सांसे ली । लॉकडाउन के बीच आई इस खबर ने परिवार समेत उनके दोस्‍तों, प्रशंसकों का दिल तोड़ दिया । नियमों की सख्‍ती के बीच उनके अंतिम संस्‍कार में सिर्फ 24 लोग मौजूद रहे ।

45 मिनट में पूरी हुई अंतिम क्रिया
ऋषि कपूर का अंतिम संस्‍कार मुंबई के चंदनवाड़ी श्‍मशान में किया गया । लगभग साढ़े 3 बजे उनके पार्थिव शरीर को अस्‍पताल से यहां लाया गया था, जिस एंबुलेंस में उनका शव रखा गया था उसे फूलों से सजाया हुआ था ।  गुलाबी रंगों के फूलों से सजी एंबुलेंस के पीछे कपूर परिवार के करीबियों की गाडि़यां भी थीं । खबरों के अनुसार 5 पंडितों ने यहां उनके अंतिम संस्‍कार की पूजा संपन्‍न की और फिर विद्युत शवदाह के माध्‍यम से उनके शव का अंतिम संस्‍कार कर दिया गया । 4 बजकर 20 मिनट पर परिवार के दूसरे लोग श्‍मशान घर से बाहर निकल गाडि़यों में बैठकर अपने घरों की ओर निकल गए थे ।

सिर्फ 24 लोगों को इजाजत
लॉकडाउन के कारण ऋषि कपूर के अंतिम संस्‍कार में ज्‍यादा लोगों को आने की इजाजत नहीं दी गई, बावजूद इसके 24 लोग वहां पहुंचे । नीतू कपूर, रणधीर कपूर, रणबीर कपूर के अलावा वहां करीना कपूर, सैफ अली खान, आलिया भट्ट, अभिषेक बच्‍चन, कुणाल कपूर आदि मौजूद रहे । पहले सिर्फ 19 लोगों को ही इजाजत दी गई थी लेकिन बाद में 5 और लोगों को अंतिम संस्‍कार में जाने की इजाजत दे गई  ।

नहीं पहुंच पाई बेटी
अफसोस की बात ये कि ऋषि कपूर की बेटी जो कि दिल्‍ली की डिफेंस कॉलोनी में रहती हैं उन्‍हें पिता के अंतिम दर्शन करने का मौका नहीं मिल पाया । लॉकडाउन के कारण वो समय से मुंबई नहीं पहुंच पाईं । हालांकि उन्‍हें मुंबई आने की इजाजत पुलिस की ओर से मिल गई थी, बावजूद इसके वो समय पर आकर पिता की पार्थिव देह को नहीं देख सकीं । हालांकि रिद्धिमा अब अपनी मां के साथ कुछ दिन रह सकेंगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *