MP: अमित शाह से मिले सिंधिया, शिवराज मंत्रिमंडल में इन्‍हें जगह दिलाने की कोशिश

भोपाल. मध्‍य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद से मंत्रिमंडल के गठन को लेकर कयासबाजी का दौर जारी है. ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही अपने समर्थकों को प्रदेश कैबिनेट में जगह दिलाने की जुगत में हैं. इस बीच, खबर है कि सिंधिया ने अमित शाह से मुलाकात की है। बताया जा रहा है कि इस दौरान दोनों के बीच मंत्रिमंडल के गठन को लेकर चर्चा हुई. जानकारी के मुताबिक, सिंधिया ने कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे सभी नेताओं को मिनिस्‍टर बनाने की वकालत की है। ज्‍योतिरादित्‍य तुलसीराम सिलावट (Tulsiram Silavat), गोविंद सिंह राजपूत, महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रभु राम चौधरी, इमरती देव और प्रद्युम सिंह तोमर को मंत्री बनाना चाहते हैं।

बता दें कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरने के बीते 23 मार्च को शिवराज सिंह चौहान ने सूबे के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी राजभवन में राज्यपाल लालजी टंडन ने उन्हें शपथ ‌दिलवाई थी इस दौरान कोरोना के चलते लॉकडाउन होने के कारण उनके साथ किसी अन्य मंत्री ने शपथ नहीं ली थी एक सादे समारोह के दौरान अकेले ही शिवराज सिंह ने शपथ ली थी तब से मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर खबरें आ रही थीं।

बैठक के दौरा शिवराज स‌िंह को विधायक दल का नेता चुना गया था
वहीं, शपथ लेने से पहले भोपाल स्थित बीजेपी के कार्यालय में हुई बैठक के दौरा शिवराज स‌िंह को विधायक दल का नेता चुना गया था। पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल भार्गव ने शिवराज के नाम का प्रस्ताव रखा था।बैठक में पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह, राजेंद्र शुक्ल सहित अन्य विधायक मौजूद थे।बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर अरुण सिंह और विनय सहस्‍त्रबुद्धी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े।विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद शिवराज ने कहा था कि पार्टी मेरी मां है और मैं मां के दूध की लाज रखने में कोई कसर नहीं छोड़ूंगा।

11 मार्च को ज्योतिरादित्य सिंधिया भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे


दरअसल, बीते 11 मार्च को पूर्व कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे. उन्हें भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी की सदस्यता दिलाई थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी में शामिल होने के बाद कहा, ‘मैं नड्डा साहब, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का धन्यवाद करना चाहूंगा।’ उनके साथ कांग्रेस के कई विधायकों ने भी बीजेपी का हाथ थाम लिया था।इसके साथ ही कांग्रेस की सरकार अल्पमत में आ गई थी।आखिर कर कमलनाथ को सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *